Ayurvedicbenifits

Carom Seeds in Hindi | अजवाइन के फायदे, नुट्रिशन वेल्यू, और नुकसान

carom seeds in hindi

About Carom Seeds in Hindi:- अजवाइन एक ऐसी जड़ी-बूटी है जो हर भारतीय घर में मशहूर है और जिसके बिना हर दाल तड़का अधूरा है। इस पौधे की उत्पत्ति हमारे अपने देश भारत में हुई थी। Carom Seeds थोड़े हरे से भूरे रंग के होते हैं। अजवाइन के पुरे पौधे में बहुत तेज गंध होती है, इसलिए इसे संस्कृत में उग्रगंधा भी कहा जाता है। इसके बीजों में कड़वा और तीखा स्वाद होता है, इसे अक्सर करी और अचार में डाला जाता है।

आयुर्वेदिक विशेषज्ञ भारतीय घरों में इसके व्यापक उपयोग के पीछे का कारण बताते हैं, “carom seeds आपके पाचन स्वास्थ्य को बढ़ाने में मदद करते हैं। अजवाइन पेट में दर्द या अपच के कारण जलन जैसी समस्या को तुरंत ठीक करने में मदद करता है। जिन्हें कम भूख लगती है। यह उनकी भूख बढ़ाता है।

“एक उचित पाचन और जबरदस्त सुंगध होने के कारण, आम तौर पर मसालों में कैरम के बीज डाले जाते हैं, बेसन रोटी, मिक्स आटे की रोटी में पकाने से पहले रोटी पर छिड़का जाता है। और वाकई बहुत ही टेस्टी लगती है।

Nutrition Value of Carom Seeds in Hindi

अजवायन की नुट्रिशन संरचना नीचे तालिका में दी गई है:

Nutrition Value Per 100gram
Carbs42 gm
Protein15 gm
Fat26 gm
Fibre38.5 gm
Sodium 10 mg
Iron 5 mg
Vitamin – C 4 mg
Total calories302 Kcal
Carom Seeds Nutrition Value

अजवाइन के महत्वपूर्ण रासायनिक यौगिक
अजवायन के बीज और उनके तेल में 20 तरह के बायोएक्टिव यौगिक पाए जाते हैं, जो मुख्य रूप से थाइमोल, टेरपेनोइड्स, पी-साइमीन, गामा-टेरपीन और अन्य शामिल होते है।

थाइमोल और कार्वाक्रोल महत्वपूर्ण तत्व हैं जो कवक और बैक्टीरिया के विकास को रोकने के लिए जिम्मेदार होता हैं।

Benefits of Carom Seeds in Hindi – अजवाइन के लाभ

यहाँ बालों, त्वचा और स्वास्थ्य के लिए अजवायन के कुछ लाभ दिए गए हैं:

अजवाइन को भूनकर उपयोग करने से सुगंध और स्वाद दोनों बढ़ जाते हैं। अजवाइन के बीज फाइबर, खनिजों से भरपूर होते हैं। वे विटामिन और एंटीऑक्सिडेंट में समृद्ध हैं। अजवाइन को कच्चा भी चबाया जा सकता है, पानी या चाय में मिलाया जा सकता है,” अजवाइन में पाए जाने वाले पोषक तत्व आपके भोजन में स्वाद और सुगंध बढ़ाने में मदद करते है।

  1. अम्लता और अपच से तुरंत राहत

एक अध्ययन के अनुसार अजवाइन में एक्टिव एंजाइम गैस्ट्रिक रस को छोड़कर हमारी पाचन क्रिया को बढ़ाने में मदद करता हैं। अगर आप 1 चम्मच जीरा और 1 चम्मच अजवायन लें और इसमें 1/2 चम्मच अदरक पाउडर मिलाएं। इस मिश्रण को रोजाना पानी के साथ लेने से पेट की जलन ठीक हो सकती है।

2. अजवाइन आम सर्दी का इलाज करता है

अजवाइन बलगम को आसानी से बाहर निकालने में मदद करता है। अजवाइन और गुड़ को गर्म करके पेस्ट बना लें और आराम पाने के लिए दिन में दो बार 2 चम्मच सेवन करें। यह अस्थमा और ब्रोंकाइटिस जैसी सांस की बीमारियों से छुटकारा पाने में भी मदद करता है। माइग्रेन के सिरदर्द में राहत पाने के लिए अजवाइन के पाउडर को एक सूती कपड़े में लें और इसे बार-बार सुघने की कोशिश करे या इसे अपने तकिए के नीचे रखें। ऐसा करने से आपको सर दर्द में बहुत आराम मिलेगा। बुखार की समस्या में भी अजवाइन कारगर साबित होता है।

3. कान और दांत दर्द

कान और दांत दर्द को नष्ट करने के लिए अजवाइन के तेल की दो बूंदें काफी होती हैं। दांत दर्द से तुरंत राहत पाने के लिए गुनगुने पानी में 1 चम्मच अजवायन और नमक डालकर गरारे करें। अगर आप अजवाइन के जलते हुए धुएं को सांस के साथ अंदर लेते है तो ये दांत दर्द के लिए बहुत लाभकारी साबित होता है। साथ ही, यह एक बेहतरीन माउथ वॉश का काम करता है और अच्छी ओरल हाइजीन बनाए रखता है।

4. घावों को साफ करने में

अजवायन में मौजूद थाइमोल घावों को साफ करने के लिए मजबूत कवकनाशी और कीटाणुनाशक के रूप में कार्य करता है। इस प्रकार, संक्रमण या चोट के इलाज के लिए कैरम सीड्स को पीसकर स्किन पर लगाया जा सकता है। अगर अगली बार आपको ऐसी कोई चोट लगे तो अपने बचाव में अजवाइन उपयोग जरूर करे। अजवाइन के बीजो को पीसकर संक्रमित त्वचा पर लगाने से चोट का इलाज किया जा सकता है।

Benefits of carom seeds
Benefits of Carom Seeds in Hindi

5. अजवाइन पानी

एक आयुर्वेदिक चमत्कार है, खासकर गर्भवती महिलाओं के लिए। यह गर्भवती महिलाओं के गर्भाशय और पेट को साफ करने में मदद करता है और पाचन की समस्या को दूर करता है। अनियमित पीरियड्स की समस्या को दूर करता है। बच्चो में गैस बनने वाले कारणों को अजवाइन का पानी देने से समस्या को नष्ट किया जा सकता है।

अजवाइन पानी बनाने के लिए 2 चम्मच भुनी हुई अजवायन को पानी में उबाल लें. इस मिश्रण को छानकर पी लें। स्वाद के लिए आप इसमें 1 चम्मच शहद या काला नमक भी मिला सकते हैं। अजवाइन का पानी नियमित रूप से सेवन करने से शरीर में मेटाबॉलिक बढ़ाने में मदद मिलती है। फैट बर्न होता है और इस तरह आसानी से वजन कम किया जा सकता है।

6. बालो को सफ़ेद होने से बचाता है

बालों को सफेद होने से रोकने के लिए अजवाइन के बीज मदद करते हैं। इस मिश्रण को बनाने के लिए एक कप पानी में करी पत्ता, सूखे अंगूर, चीनी और अजवाइन डालकर उबाले। इस मिश्रण का उपयोग तब तक करे जब तक आपको लाभ ना पहुंचे।

7. त्वचा की सफाई

अजवाइन पाउडर विशेष रूप से मुँहासे के निशान को हल्का करने में उपयोगी साबित होता है। चेहरे पर मुंहांसे वाले स्थान पर 10-15 मिनट के लिए अजवाइन का पेस्ट लगाएं और चेहरे को ठन्डे पानी से धो ले। यह अचूक घरेलू उपाय स्किन से गंदगी को दूर करके चेहरे से मुंहासो को साफ करने में काफी मददगार साबित हो सकता है।

8. गठिया के दर्द को कम करता है

carom seeds में दो गुण होते हैं जो गठिया से लड़ने में मदद करते हैं। अजवाइन में एंटीबायोटिक और एंटीइंफ्लामेंटरी गुण पाए जाते हैं जो लालिमा को कम करते हैं और सूजन से लड़ते हैं। अजवाइन में संवेदनाहारी गुण होते हैं जो दर्द और सूजन में राहत प्रदान करते हैं। घरेलू उपचार के रूप में, आप पिसे हुए बीजों के पेस्ट को जोड़ों पर लगा सकते हैं या गर्म पानी के टब में मुट्ठी भर अजवाइन को गर्म करके जोड़ो का सेक भी कर सकते है।

9. मच्छरों को भगाने के लिए

बाजार में मिलने वाली कोइल या लिक्विड जहरीला होने के साथ स्वास्थ को नुकसान भी पहुंचाते है। तो आप मच्छरदानी हमेशा घर पर बना सकते हैं। सरसों के तेल में अजवायन मिश्रण को मिलाएं और कार्डबोर्ड के टुकड़ों पर लगाएं जिसे आप अपने कमरे के कोनों में बांधने से मच्छरों को भागने में मदद मिलती है। इस दवा का उपयोग आप एक विकर्षक के रूप में कर सकते है। इससे निकलने वाला धुआँ भी खुशबू भरा होगा।

Side Effects of Carom Seeds in Hindi – अजवाइन के नुकसान

अजवायन के अधिक उपयोग से पेट में गैस बनने की समस्या हो सकती है, जिससे एसिडिटी और रिफ्लक्स हो सकता है।

थाइमोल की अधिक मात्रा होने के कारण कुछ लोगों को अजवायन से एलर्जी हो सकती है, जिससे चक्कर आना, मतली और उल्टी हो सकती है।

अजवायन में कुछ बायोएक्टिव यौगिक होते हैं, और वे मुंह में सूजन पैदा करने के कारण बन सकते हैं, जिसके परिणामस्वरूप जलन और मुंह के छाले हो सकते हैं।

गर्भवती महिलाओं को बच्चे के विकास के लिए अजवाइन का उपयोग अधिक मात्रा में नहीं करना चाहिए।

अध्ययन के अनुसार अजवाइन को अधिक चबाने से यह विष का काम भी कर सकता है। इसके परिणामस्वरूप गंभीर पोइजन की समस्या हो सकती है।

सर्जरी के वक्त आप अगर अजवाइन की खुराक ले रहे है तो रक्तस्त्राव का खतरा बढ़ सकता है। इसलिए, सर्जरी से 2 सप्ताह पहले अजवाइन का सेवन बंद अवश्य कर दे।

इन्हे भी पढ़े:-

Himcolin Gel in Hindi हिमकोलिन जेल के उपयोग

Himalaya Tentex Forte Tablet Uses in Hindi

सफ़ेद दाग की समस्या में डाइट में क्या शामिल करे

निष्कर्ष

अजवाइन का उपयोग लगातार भारतीय खाना पकाने और आयुर्वेदिक हर्बल दवा के रूप में किया गया है। अजवाइन के बीजों (carom seeds in hindi) में पावरफुल एंटी बैक्टीरिया , एंटिफंगल और एंटीऑक्सिडेंट गुण पाए जाते हैं। अजवाइन के बीजो का तेल स्किन के ऊपर लगाने के लिए लोशन और मलहम तैयार करने के लिए उपयोग में लाया जाता है। इस प्रकार वे पेप्टिक अल्सर के इलाज में प्रभावी साबित होते हैं, रक्तचाप और कोलेस्ट्रॉल के स्तर को कम करते हैं।